दुनिया चले ना श्री राम के बिना राम जी चले ना हनुमान के बिना।।

दुनिया चले ना श्री राम के बिना राम जी चले ना हनुमान के बिना।। सीता हरण की कहानी सुनो बनवारी मेरी जुबानी सुनो सीता मिले ना श्री राम के बिना पता चले ना हनुमान के बिना ये दुनिया चले ना श्री राम के बिना राम जी चले ना हनुमान के बिना।। लक्ष्मण का बचना मुश्किल

दुनिया चले ना श्री राम के बिना

दुनिया चले ना श्री राम के बिना, राम जी चले ना हनुमान के बिना दुनिया चले ना श्री राम के बिना, राम जी चले ना हनुमान के बिना जब से रामायण पढ़ ली है, एक बात मैंने समझ ली है रावण मरे ना श्री राम के बिना, लंका जले ना हनुमान के बिना दुनिया चले

दुःख सुख दोनो कुछ पल के, कब आये कब जाये

दुःख सुख दोनो कुछ पल के कब आये कब जाये दुःख है ढलते सूरज जैसा शाम ढले ढल जाये दुःख सुख दोनो कुछ पल के कब आये कब जाये दुःख है ढलते सूरज जैसा शाम ढले ढल जाये हो.. शाम ढले ढल जाये दुःख तो हर प्राणी को होय राम ने भी दुःख झेला धैर्य

दिल खोले मिल के बोलो सारे बोलो सीता राम

रामा ओ रामा रे, रामा ओ रामा रे रामा ओ रामा रे, रामा ओ रामा रे रामा ओ रामा रे, रामा ओ रामा रे दिल खोले, मिल के बोलो, सारे बोलो, सीता राम, जीना क्या उस का जीना, जो लेता कभी ना, सिया वर राम का नाम॥ रामा ओ रामा रे, रामा ओ रामा रे

दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया, राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया॥

दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया। राम एक देवता, पुजारी सारी दुनिया॥ द्वारे पे उसके जाके कोई भी पुकारता, परम कृपा दे अपनी भव से उभारता। ऐसे दीनानाथ पे बलिहारी सारी दुनिया, दाता एक राम, भिखारी सारी दुनिया॥ दो दिन का जीवन प्राणी कर ले विचार तू, प्यारे प्रभु को अपने मन में निहार तू।

तेरे मन में राम, तन में राम, रोम रोम में राम

दोहा: राम नाम की लूट है, लूट सके तो लूट। अंत समय पछतायेगा, जब प्राण जायेंगे छूट॥ तेरे मन में राम, तन में राम, रोम रोम में राम रे, राम सुमीर ले, ध्यान लगाले, छोड़ जगत के काम रे। बोलो राम, बोलो राम, बोलो राम राम राम॥ माया में तू उलझा उलझा धर धर धुल

जीवन तुमने दिया है संभालोगे तुम Ram Hindi Bhajan Lyrics

जीवन तुमने दिया है, संभालोगे तुम जीवन तुमने दिया है, संभालोगे तुम। आशा हमें है, विश्वास है हर मुश्किल से विधाता निकालोगे तुम जीवन तुमने दिया है, संभालोगे तुम आशा हमें है विश्वास है हर मुश्किल से विधाता निकालोगे तुम जीवन तुमने दिया है, संभालोगे तुम। साये में हम आपही के पले सत्कर्म की राह

तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार, उदास मन काहे को करे।

राम नाम सोहि जानिये, जो रमता सकल जहान, घट घट में जो रम रहा, उसको राम पहचान। तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार, उदास मन काहे को करे। नैया तेरी राम हवाले, लहर लहर हरि आप सँभाले। हरि आप ही उठावे तेरा भार, उदास मन काहे को करे॥ काबू में मँझधार उसी के, हाथों में पतवार

तू दयाल दीन हौं तू दानी हौं भिखारी

तू दयाल, दीन हौं, तू दानी, हौं भिखारी। हौं प्रसिद्ध पातकी, तू पाप पुंज हारी॥ नाथ तू अनाथ को, अनाथ कौन मोसो। मो सामान आरत नाही, आरती हर तोसो॥ ब्रह्मा तू, जीव हौं, तू ठाकुर, हौं चेरो। तात मात गुरु सखा, तू सब विधि ही मेरो॥ तोही मोहि नाते अनेक, मानिए जो भावे। ज्यो त्यों

तुम आशा विश्वास हमारे। तुम धरती आकाश हमारे॥

तुम आशा विश्वास हमारे। तुम धरती आकाश हमारे॥ तात मात तुम, बंधू भ्रात हो, दिवस रात्रि संध्या प्रभात हो। दीपक सूर्य चद्र तारक में, रामा, तुम ही ज्योति प्रकाश हमारे॥ साँसों में तुम आते जाते, एक तुम्ही से हैं सब नाते। जीवन वन के हर पतझर के, एक तिम्ही मधुमास हमारे॥ तुम्ही ही सब में,