बृंदाबन का कृष्ण कन्हैया…Verified Lyrics 

बृंदाबन का कृष्ण कन्हैया, सब की आँखो का तारा -2 मन ही मन क्यो जले राधिका मोहन तो है सब का प्यारा मन ही मन क्यो जले राधिका मोहन तो है सब का प्यारा बृंदाबन का कृष्ण कन्हैया, सब की आँखो का तारा -2 जमना तट पर नंद का लाला, जब जब रास रचाए रे

मीठे रस से भरोरी, राधा रानी लागे,Verified Lyrics 

मीठे रस से भरोरी, राधा रानी लागे, राधा रानी लागे म्हणे कारो कारो, यमुनाजी रो पानी लागे मीठे रस से भरोरी, राधा रानी लागे, राधा रानी लागे म्हणे कारो कारो, यमुनाजी रो पानी लागे मीठे रस से भरोरी, राधा रानी लागे, राधा रानी लागे म्हणे कारो कारो, यमुनाजी रो पानी लागे मीठे रस से भरोरी,

मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की

मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की मैं तो आरती उतारूँ रे संतोषी माता की मैं तो आरती उतारूँ रे जय जय संतोषी माता जय जय माँ जय जय संतोषी माता जय जय माँ जय जय संतोषी माता जय जय माँ बड़ी ममता है बड़ा प्यार माँ की आँखों में माँ की आँखों में