श्याम तेरा दर नहीं छूटे चाहे सारा जग रूठे✓ Lyrics Verified 

श्याम तेरा..आ, दर नहीं छूटे.., चाहे सारा..आ जग रूठे -3

प्रीत का धागा तुमसे बांधा, जन्म जन्म तक न टूटे
श्याम तेरा..आ, दर नहीं छूटे.., चाहे सारा..आ जग रूठे

रहमत बरसे, तेरी..इ श्याम, जब तक साँस है, लू तेरा नाम , लू तेरा नाम -2
छोड़ के आया सब की चौखट, अब है सहारा, खाटू धाम ,खाटू धाम
दुनिया वाले सब मतलब के, वादे करते है झूठे
श्याम तेरा..आ, दर नहीं छूटे.., चाहे सारा..आ जग रूठे

मेरे सर पर, हाथ..अ तुम्हारा, चरण में बीते..ए जीवन सारा..आ ,जीवन सारा -2
अब न किसी की..इ चाहत मुझको, जब से मिल गया तेरा द्वारा, तेरा द्वारा
कैसे भुलाऊ..उ अहसान..न बाबा , जो तेरी चौखट से लूटें..ए है
श्याम तेरा..आ, दर नहीं छूटे.., चाहे सारा..आ जग रूठे

तुमने कलाई..इ, थाम..अ ली मेरी, गुलशन करदी..इ, जिन्दिगी मेरी , जिन्दिगी मेरी-2
इन नेनो की कदर बडी है, जब से बसाई सूरत..अ तेरी ,सूरत तेरी
सोनी को है..अ तुमसे से मोह्बत, प्रेम का रिश्ता ना टूटें है

श्याम तेरा दर नहीं छूटे चाहे सारा जग रूठे
प्रीत का धागा तुमसे बांधा, जन्म-जन्म तक ना टूटें है
श्याम तेरा..आ, दर नहीं छूटे.., चाहे सारा..आ जग रूठे -2
चाहे सारा जग रूठे-2

अपना लक्ष्य हासिल करें - 33 Tips to Achieve Goal क्या आप अपने लक्ष्य को पाना चाहते हैं? तो इसका जवाब होगा हाँ तभी तो आप यहाँ हैं।

गीता की 151 चुनिंदा पंक्तियों का संकलन| आशा है की यह पंक्तियाँ आपने जीवन में सकारात्मकता का संचार करेगी| जय श्री कृष्णा !

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *