पायो जी मैंने राम रतन धन पायो

पायो जी मैंने राम रतन धन पायो।
वस्तु अमोलिक दी मेरे सतगुरु।
कृपा कर अपनायो॥

जन्म जन्म की पूंजी पाई।
जग में सबी खुमायो॥

खर्च ना खूटे, चोर ना लूटे।
दिन दिन बढ़त सवायो॥

सत की नाव खेवटिया सतगुरु।
भवसागर तरवयो॥

मीरा के प्रभु गिरिधर नगर।
हर्ष हर्ष जस गायो॥

Bhagavad Gita- Hindi Quotes गीता ज्ञान || Geeta Saar in Hindi अभी डाउनलोड करें!

इस ऐप में 30+ आरती का संग्रह है। इसमें सभी प्रमुख देवी देवता की आरती शामिल की गई है। Download now!

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *