जब से थामा है तूने सावरिया

जब से थामा है तूने
सावरिया मेरा हाथ …2
खुद ही बन जाती मेरी …2
बिगड़ी हर बात …………
जब से थामा है तूने
सावरिया मेरा हाथ …2

◾️ हर गया था मैं तो मनमोहन
पतझड़ सा बन गया था ये जीवन
नज़र उठा के जब तूने देखा
बदल गयी इस किस्मत की रेखा …2
अब तो रहता है मेरे …………2
हर पल तू साथ ……………
जब से थामा है तूने
सावरिया मेरा हाथ …2

◾️ तूने किया मेरे लिए जितना
कोई नहीं कर सकता है उतना …2
क़र्ज़ तेरा मैं कैसे चुकाऊंगा
अहसान टेल दबा हूँ मैं इतना …2
हारे का साथी तू ही ………2
दीनोप का नाथ ………
जब से थामा है तूने
सावरिया मेरा हाथ …2

◾️ परवाह नहीं जो भवर में नैया है
अब तो मेरे साथ कन्हैया है …………2
अमन तू कभी डूब नहीं सकता
श्याम ने पकड़ी तेरी बईया है …2
कर देगा पार ये नैया ……2
बिन पतवार ……………
जब से थामा है तूने
सावरिया मेरा हाथ …2

जब से थामा है तूने
सावरिया मेरा हाथ …2
खुद ही बन जाती मेरी …2
बिगड़ी हर बात …………
जब से थामा है तूने
सावरिया मेरा हाथ …5

अपना लक्ष्य हासिल करें - 33 Tips to Achieve Goal क्या आप अपने लक्ष्य को पाना चाहते हैं? तो इसका जवाब होगा हाँ तभी तो आप यहाँ हैं।

प्रेरणादायक अनमोल शायरी-Secrets of Success

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *