Tag: Udit Narayan

कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ।

कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ, ◾️श्लोक- एक बिलपत्रम एक पुष्पम, एक लोटा जल की धार, दयालु रीझ के देते है, चंद्रमोली फल चार, व्याघाम्बरं भस्माङ्गरं, जटा जुट लिबास, आसन जमाये बैठे है, कृपा सिंधु कैलाश। कैलाश के निवासी नमो बार बार हूँ, नमो बार बार हूँ, आयो शरण तिहारी भोले तार तार तू,

मैंने छोड़ा जगत जंजाल, राम गुण गाने लगा

मैंने छोड़ा जगत जंजाल, राम गुण गाने लगा, राम नाम की धुन में बहकर, जीवन सफल बनाने लगा, मैने छोड़ा जगत जंजाल, राम गुण गाने लगा।। ◾️ ये माया है बहता पानी, ना रहे राजा ना रही रानी, हम तुम सब की यही कहानी, यह दुनिया है आनी जानी, नाम राम का सबसे सच्चा, नाम

तुम दर्शन हम नैना रामा, तुम दर्शन हम नैना रामा

तुम दर्शन हम नैना रामा तुम दर्शन हम नैना रामा तुम दर्शन हम नैना रामा तुम दर्शन हम नैना रामा॥ कौशल्या की कोख से तुमने जनम लिया है ऐसे सुख समृद्धि की गंगा को मुख से जन्मे जैसे गंगा जन्मे जैसे सरजू के तट झूम के गायें पल पल आज बधाई जग जग अँखियाँ तरसी