Tag: Mukesh Bagra

जो खेल गए प्राणों पे, श्री राम के लिए,Verified lyrics 

जो खेल गए प्राणों पे, श्री राम के लिए, एक बार तो हाथ उठालो, मेरे हनुमान के लिए, जो खेल गए प्राणो पे, श्री राम के लिए एक बार तो हाथ उठालो, मेरे हनुमान के लिए।। सागर को लांघ के इसने, सीता का पता लगाया, प्रभु राम नाम का डंका, लंका में बजा के आया,

नज़रे मिला के मुझसे, ऐ श्याम मुस्कुरा दोVerified lyrics 

नज़रे मिला के मुझसे, ऐ श्याम मुस्कुरा दो, गलती अगर हुई तो, दिल से उसे भुला दो, नज़रे मिला के मुझसे।। किस बात पे खफा हो, नाराज लग रहे हो, लगते हो जैसे हरदम, ना आज लग रहे हो, खोए खोए से मेरे, खोए खोए से मेरे, सरताज लग रहे हो, तुमको रिझाऊं कैसे-2, इतना

गौरी के लाल सुनो कबसे तुझे याद करे

गौरी के लाल सुनो, की कबसे तुझे याद करे, कीर्तन में आ जाओ, हाय कीर्तन में आ जाओ, ये तुमसे फरियाद करे, गौरी के लाल सुनो, की कबसे तुझे याद करे।। तुझको मनाऊँ देवा, कबसे बुलाऊँ, अपनी पलके बिछाऊँ, अब तो आजा, गिरिजा के प्यारे, बाबा शिव के दुलारे, आजा तुझको पुकारे गणराजा, तुम बिन

तेरी ज्योति में वो जादू है तक़दीर बना देती है।

तेरी ज्योति में वो जादू है, तक़दीर बना देती है, जगमग जलती जब ज्योत तेरी, अंधकार मिटा देती है, तेरी ज्योति में वो जादू है, तक़दीर बना देती है।। ◾️तेरी ज्योति है माँ पावन, इससे दुनिया है माँ रोशन, लागे सबको ही मन भावन, मैया सारे ही अँधेरे मिटाती, जहां पे ज्योति जलती है, वहां

गजानंद वंदन करते है

गजानंद वंदन करते है, आज सभा में स्वागत है, अभिनंदन करते है, गजानंद वंदन करते है, गजानंद वंदन करते है, वंदन करते है, आज, अभिनंदन करते है, वंदन करते है, आज, अभिनंदन करते है, गजानंद वंदन करते है, गजानंद वंदन करते है।। देव तुमसा ना दूजा, प्रथम हो तेरी पूजा, नाम तेरे का डंका, आज

ओ संसार बनाने वाले, तेरे जलवे अजब निराले

ओ संसार बनाने वाले, तेरे जलवे अजब निराले खूब कमाल किया है तूने सब को अचरज में है डाले ओ संसार बनाने वाले……… आसमान पर पानी का कहीं मिलता निशां नहीं, मिलता निशान नहीं है, पल में तेरी माया बदले फिर अनुमान नहीं है, फिर अनुमान नहीं है, आए बादल काले –पीले, उमड़ –घुमड़ कर

रिश्ता तू बनाले श्याम से

तेरे हर दुःख में तेरे हर दुःख में हर सुख में यही काम आएगा. रिश्ता तू बना ले श्याम से आराम पायेगा …2 रिश्ता तू बना ले श्याम से आराम पायेगा …2 ◾️ ये ऐसा सच्चा साथी हर दुःख में साथ निभाए इस जग में हार गया जो उसे बढ़ कर गले लगाए जब ठुकरा

जब से थामा है तूने सावरिया

जब से थामा है तूने सावरिया मेरा हाथ …2 खुद ही बन जाती मेरी …2 बिगड़ी हर बात ………… जब से थामा है तूने सावरिया मेरा हाथ …2 ◾️ हर गया था मैं तो मनमोहन पतझड़ सा बन गया था ये जीवन नज़र उठा के जब तूने देखा बदल गयी इस किस्मत की रेखा …2

मेरी जिंदगी में क्या था

मेरी जिंदगी में क्या था तेरी दया से पहले मैं बुझा हुआ दिया था तेरी दया से पहले……2 मेरी जिंदगी में क्या था…… ◾️ मेरी जिंदगी थी खाली जैसे शीप खाली होती मेरी बढ़ गयी है कीमत तूने भर दिए है मोती……2 मेरी कुछ नहीं थी कीमत…2 तेरी दया से पहले मैं बुझा हुआ दिया

कीर्तन की है रात बाबा आज थाने आनो है

कीर्तन की है रात बाबा आज थाने आनो है कीर्तन की है रात बाबा आज थाने आनो है थाने कोल निभानो है कीर्तन की है रात बाबा आज थाने आनो है कीर्तन की है रात बाबा ◾️ आज थाने आनो है दरबार सावरिया ऐसो साजो प्यारो दयालु आपको सेवा में सावरिया सगळा खड़ा दिखे हुकम