Tag: Mohammed Rafi

राम जी की निकली सवारी

हो…………सर पे मुकुट सजे मुख पे उजाला, मुख पे उजाला हाथ में धनुष गले में पुष्प माला हम दास इनके ये सबके स्वामी अन्जान हम ये अन्तर्यामी शीश झुकाओ, राम गुन गाओ बोलो जय विष्णु के अवतारी राम जी की निकली सवारी राम जी की लीला है न्यारी ।।१।। एक तरफ़ लक्ष्मण एक तरफ़ सीता

तू ही फ़कीर, तू ही है राजा

तू ही फ़कीर, तू ही है राजा तू ही है साईं, तू ही है बाबा साईनाथ, साईनाथ ।।१।। साईनाथ तेरे हजारों हाथ। साईनाथ तेरे हजारों हाथ।। जिस जिस ने तेरा नाम लिया तू हो लिया उसके साथ साईनाथ, साईनाथ ।।२।। इत देखूं तो तू लागे कन्हैया उत देखूं तो दुर्गा मैया नानक की मुस्कान है

शिरड़ी वाले साईँ बाबा आया है तेरे दर पे सवाली

ज़माने में कहाँ टूटी हुई तस्वीर बनती है तेरे दरबार में बिगड़ी हुई तक़दीर बनती है तारीफ़ तेरी निकली है दिल से आई है लब पे बन के क़व्वाली शिरड़ी वाले साईँ बाबा आया है तेरे दर पे सवाली लब पे दुआएँ आँखों में आँसू दिल में उम्मीदें पर झोली खाली शिरड़ी वाले … ओ