Tag: krishan bhajan

दिनबंधु दीनानाथ मेरी सुध लीजिए,Verified lyrics 

दिनबंधु दीनानाथ मेरी सुध लीजिए, दीनो के दयाल दाता मोपे दया कीजिए। खेती नाहीं बाड़ी नाहीं, बीणज व्यापार नाहीं, एसों कोई सेठ नाहीं, जाँ से कछु लीजिए दीनो के दयाल दाता….|1| भाई नाहीं बन्धु नाहीं, कूटुंब कबीलो नाहीं, एसों कोई मित्र नाहीं, जाँ से कच्छु लिजये दीनो के दयाल दाता….|2| सोने को सुनैयो नाहीं, रूपै

चाल सखी सत्संग में चाला, सत्संग में…Verified lyrics 

चाल सखी सत्संग में चाला, सत्संग में माधव आसी, राम गुण रामगुण गावो म्हारी, सजनी नहि तो जुगड़ा में बैज्यासी। ब्रह्मा आसी विष्णु आसी, शंकर आसी बाबों कैलाशी, सुंड सुण्डाल्यो बाबो गणपत आसी, संग में आ गौरजा माँ आसी।। राम लक्ष्मण दशरथजी का लड़का, माधो वन को वनवासी, हनुमान सा पायक आसी, संग में आ

तेरा दर मिल गया मुझको सहारा हो तो ऐसा होVerified lyrics 

तेरा दर मिल गया मुझको सहारा हो तो ऐसा हो। मुझे राश आ.. गया है, तेरे दर… पर सर. झुकाना तूझे मिल गया… पुजारी , मुझे मिल गया… ठिकाना। मुझे कोन.. जानता था तेरी बंदगी.. से पहले तेरे नाम ने.. बना दिया, मेरी जिंदगी फसाना। तेरा दर मिल गया मुझको सहारा हो तो ऐसा हो,

नख पर गिरिवर लीनो धार, कन्हैया मेरो बारो,Verified lyrics 

नख पर गिरिवर लीनो धार, कन्हैया मेरो बारो, कन्हैया मेरो बारो, कन्हैया मेरो बारो। नख पर गिरिवर लीनो धार, कन्हैया मेरो बारो ॥1॥ यूँ कहे यशोदा मैया, सब ज़ोर लगाओ भैया, अरी यह कैसे झेले भार, कन्हैया मेरो बारो, कन्हैया मेरो बारो,कन्हैया मेरो बारो। नख पर गिरिवर लीनो धार, कन्हैया मेरो बारो, कन्हैया मेरो बारो,

श्याम तेरा दर नहीं छूटे चाहे सारा जग रूठे✓ Lyrics Verified 

श्याम तेरा..आ, दर नहीं छूटे.., चाहे सारा..आ जग रूठे -3 प्रीत का धागा तुमसे बांधा, जन्म जन्म तक न टूटे श्याम तेरा..आ, दर नहीं छूटे.., चाहे सारा..आ जग रूठे रहमत बरसे, तेरी..इ श्याम, जब तक साँस है, लू तेरा नाम , लू तेरा नाम -2 छोड़ के आया सब की चौखट, अब है सहारा, खाटू

रुकमणी जीमण दे मने, भक्तों का प्रशाद,Lyrics Verified 

टेर : रुकमणी जीमण दे मने, भक्तों का प्रशाद, प्रेम वाला भोजन ऐ मने, लगे बड़ा स्वाद।। काचे चावल मत ना खाओ, कर से कृपा निधान। कच्चे-कच्चे चावलों से पेट दुखेगा कहा मेरा ले मान।। रुकमणी जीमण दे…. धन्ने भगत की गउए चराई, बाजरे की रोटियां खाई। अपने भक्त के खेत बाजरी, बिना बीज निप

सुमिरण करले मेरा मना बीती उम्र हरि नाम बिना।✓ Lyrics Verified 

टेर : सुमिरण करले मेरा मना बीती उम्र हरि नाम बिना। हस्ती दन्त बिना, पंछि पंख बिना, जिमि राहगीर है पथ बिना। वैश्या का पुत्र पिता बिन हिना, जिमि प्राणी हो प्राण बिना।। सुमिरण करले…… धेनु क्षीर नदियाँ नीर बिन, जैसे नारी पुरुष बिना। जैसे तरवर फल बिन सुना, जिमि धरती रहे मेघ बिना।। सुमिरण

कोणी माने ऐ यशोदा तेरो गिरधारी।✓ Lyrics Verified 

टेर : कोणी माने ऐ यशोदा तेरो गिरधारी। घर का तो छोड़ा कान्हा, महल मालिया, गुजारी की झोपड़ी, लगे प्यारी। कोणी माने ऐ….. घर का तो छोड़ा कान्हा, माखन मिसरी, तने गुजरी की राबड़ी, लगे प्यारी। कोणी माने ऐ….. घर का तो छोड़ा कान्हा, पलंग पथरना, तने गुजरी की गुदड़ी, लगे प्यारी। कोणी माने ऐ…..

मैं तो कृष्ण भजु या राम मेरे दोनों में अटके प्राण✓ Lyrics Verified 

मैं तो कृष्ण भजु या राम : कृष्ण जी और राम जी दोनों एक ही है। एक भगत की भावना को इस भजन में बहुत ही सूंदर शब्दों में व्यक्त किया गया है।   श्री राम…… राम…….राम……हो हो राम…… राम कृष्ण दोहु एक…. है एक है …… एक है राम कृष्ण दोहु एक…. है अंतर

थारी मुरली मनड़ो मोयो कान्हा और बजाओ थारी मुरली न।✓ Lyrics Verified 

टेर : थारी मुरली मनड़ो मोयो कान्हा और बजाओ थारी मुरली न। आ मुरली मीरा बाई ने मोही राणे न छोड़ मीरां थारे संग होई मेड़तियो छिटकायो कान्हा। आ मुरली राधा प्यारी ने मोही बृज में गोपी लीला होई मधुबन रास रचायो कान्हा। आ मुरली कर्मा बाई न मोही मंदिर में थारी बाटा जोही जीण