Tag: Jaya Kishori ji

तेरे द्वार खड़ा भगवान भगत भर दे रे झोली

तेरे द्वार खड़ा भगवान हो, तेरे द्वार खड़ा भगवान, भगत भर दे रे झोली।। तेरा होगा बड़ा एहसान,  कि जुग जुग तेरी रहेगी शान, भगत भर दे रे झोली, तेरे द्वारे खड़ा भगवान, भगत भर दे रे झोली, ओ भगत भर दे रे झोली।। डोल उठी है सारी धरती देख रे, डोला गगन है सारा, भीख

एक दिन वो भोला भंडारी बनकर सुन्दर नारी।

एक दिन वो भोला भंडारी, बनकर सुन्दर नारी, गोकुल में आ गए हैं। पार्वती ने मना किया तो, ना माने त्रिपुरारी, बिरज में आ गए हैं।। ◾️पार्वती से बोले भोले, मैं भी चलूँगा तेरे संग मैं, राधा संग श्याम नाचे, मैं भी नाचूँगा तेरे संग में, रास रचेगा ब्रज मैं भारी, मुझे दिखाओ प्यारी, बिरज

जगत के रंग क्या देखूं तेरा दीदार काफी है

जगत के रंग क्या देखूं तेरा दीदार काफी है। क्यों भटकूँ गैरों के दर पे तेरा दरबार काफी है॥ ◾️ नहीं चाहिए ये दुनियां के निराले रंग ढंग मुझको, निराले रंग ढंग मुझको चली जाऊँ मैं वृंदावन चली जाऊँ मैं वृंदावन तेरा श्रृंगार काफी है जगत के रंग क्या देखूं तेरा दीदार काफी है ◾️

साँवरिया ले चल परली पार

कन्हैया ले चल परली पार, साँवरिया ले चल परली पार। जहां विराजे राधा रानी, अलबेली सरकार॥ विनती मेरी मान सनेही, तन मन है कुर्बान सनेही, कब से आस लिए बैठी हूँ, जग को बाँध किये बैठी हूँ, मैं तो तेरे संग चलूंगी। ले चल मुझको पार॥ साँवरिया ले चल परली पार… गुण अवगुण सब तेरे

तू कितनी अच्छी है तू कितनी भोली है प्यारी प्यारी है

तू कितनी अच्छी है, तू कितनी भोली है, प्यारी प्यारी है, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ। यह जो दुनिया है, वन है कांटो का, तू फुलवारी है, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ, ओ माँ॥ ◾️ दुखन लागी हैं माँ तेरी अँखियाँ, मेरे लिए जागी है तू सारी सारी रतिया। मेरी निदिया

तुम हमारे थे प्रभुजी, तुम हमारे हो

तुम हमारे थे प्रभुजी, तुम हमारे हो तुम हमारे ही रहोगे, हो मेरे प्रीतम॥ ◾️ हम तुम्हारे थे प्रभुजी, हम तुम्हारे हें हम तुम्हारे ही रहेंगे, ओ मेरे प्रीतम॥ ◾️ तुम्हें छोड़ सुन नन्द दुलारे कोई न मीत हमारो॥ किस्के दुआरे जाएँ पुकारूँ और न कोई सहारो ॥ अब तो आके बाहाँ पकड़ लो, ओ

भगत के वश में है भगवान

भगत के वश में है भगवान – 4 भगत बिना ये कुछ भी नहीं है – 2 भगत है इसकी जान भगत के वश में है भगवान भगत के वश में है भगवान भगत बिना ये कुछ भी नहीं है – 2 भगत है इसकी जान भगत के वश में है भगवान – 4 ◾️

थारे झांझ नगाड़ा बाजे रे सालासर के मंदिर में हनुमान विराजे रे॥

थारे झांझ नगाड़ा बाजे रे सालासर के मंदिर में हनुमान विराजे रे॥ भारत राजस्थान में जी सालासर है एक धाम सूरज स्वामी बण्यो देवरों महीमा अप्रमपार थारे लाल ध्वजा फहरावे रे सालासर के मंदिर में हनुमान विराजे रे॥ चैत्र सुदी पूनम को मेलो भीड़ लगे अति भारी नर नारी थारा दर्शन करने आवे बारी बारी