Tag: Hanuman ji

गर हो तेरी दया का इशारा, डूबता हो कोई मिलता

गर हो तेरी दया का इशारा। डूबता हो कोई मिलता पल भर में उसको किनारा। ग्राह गज में हुई थी लड़ाई। गज ने आवाज तुमको लगाई। गर न होती दया मारा जाता वो गजराज बेचारा। शिवरी देखे थी बाट तिहारी। राह में निशदिन लगाती बुहारी। जो ही दर्शन किये कर गई पल भर में जग

हनुमान चालीसा – श्री गुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुर सुधारि।

॥दोहा॥ श्री गुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुर सुधारि। बरनउं रघुबर विमल जसु, जो दायकु फल चारि॥ बुद्धिहीन तनु जानिकै, सुमिरौं पवन-कुमार। बल बुद्धि विद्या देहु मोहिं, हरहु कलेश विकार॥ ॥चौपाई॥ जय हनुमान ज्ञान गुण सागर। जय कपीस तिहुँ लोक उजागर॥ राम दूत अतुलित बल धामा। अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा॥ महावीर विक्रम बजरंगी। कुमति निवार

आसरा एक तेरा एक तेरा सहारा आसरा एक तेरा एक तेरा सहारा

आसरा एक तेरा एक तेरा सहारा आसरा एक तेरा एक तेरा सहारा सुनले फरियाद मेरी आ मुझे दे किनारा आसरा ऐक तेरा एक तेरा सहारा।। ◾️ जख्मी जग ने किया है घाव किसको दिखाऊ कोई अपना नही है हाल किसको सुनाऊ एक तुझपे ही बाबा जोर चलता है मेरा आसरा ऐक तेरा एक तेरा सहारा।।

आसन लगाके रखना अंगना सजाके रखना।

आसन लगाके रखना, अंगना सजाके रखना। आसन लगाके रखना, अंगना सजाके रखना। आयेँगे बजरंग बली, सिन्दूर मिलाके रखना॥ आसन लगाके रखना, अंगना सजाके रखना। वीर बड़ा बलकारी, शिव शंकर का अवतारी। सियाराम का है प्यारा, भक्तोँ का हितकारी। महावीर बजरंगी, संकट मोचन कहलाते। भक्तोँ के सदा सहाई, दुष्टोँ को मार भगाते। इनपे भरोसा रखना, ध्यान

आज मंगलवार है महावीर का वार है ये सच्चा दरबार है

आज मंगलवार है महावीर का वार है ये सच्चा दरबार है सच्चे मन से जो कोई ध्यावे उसका बेड़ा पार है।। चैत्र सुदी पूनम मंगल का जनम वीर ने पाया है लाल लंगोट गदा हाथ में सर पर मुकुट सजाया है शंकर का अवतार है महावीर का वार है सच्चे मन से जो कोई ध्यावे

आओ हनुमानजी मेरे घर पूरी कर दो प्रभु आस मेरी

आओ हनुमानजी मेरे घर पूरी कर दो प्रभु आस मेरी कर दो मुझपे दया की नजर पूरी कर दो प्रभु आस मेरी।। याद कर लो प्रभु उस घड़ी को दर्श दिया गणेश पूरी को बाबा ने समाधी लगाई सेवा दी जब किशोर पूरी को किशोर पूरी को किया मोहन को तुमने अमर पूरी कर दो

आ लौट के आजा हनुमान तुम्हे श्री राम बुलाते हैं।

लौट के आ लौट के आ आ लौट के आजा हनुमान तुझे श्री राम बुलाते है…2 लक्ष्मण के बचा ले तू प्राण..२ तुझे श्री राम बुलाते है आ लौट के आजा हनुमान तुझे श्री राम बुलाते है…2 गए पवन सूत लेन सजीवन अब तक क्यों नहीं आये…2 सेनापति सुग्रीव पुकारे…2 नर बानर कुम लाये सब

अंजनी माँ थारो लाल कठे वो भक्ता रो प्रतिपाल कठे

अंजनी माँ थारो लाल कठे, वो भक्ता रो प्रतिपाल कठे, वो संकट मोचन नाम कठे, दुनिया में बढ़ ग्यो पाप घणो, दुनिया में बढ़ ग्यो पाप घणो, वो राम भगत हनुमान कठे, अंजनी माँ थारो लाल कठे, वो भक्ता रो प्रतिपाल कठे, वो संकट मोचन नाम कठे।। धरती रो पाप मिटावण ने, अब पड़ी जरुरत

अंजनी के लाला सुनो दिन दयाला शरण पड़ा हूँ मुझे देदो सहारा

अंजनी के लाला सुनो दिन दयाला, शरण पड़ा हूँ मुझे देदो सहारा, तेरा द्वारा सबसे न्यारा, लगता मुझको प्यारा, अंजनी के लाला सुनो दिन दयाला, शरण पड़ा हूँ मुझे देदो सहारा।। सालासर तेरा भवन बिराजे, महिमा है अति भारी, झालर शंख नगाड़ा बाजे, पूजे नर और नारी, मेरी भी अर्जी सुन लेना बाबा, शरण पड़ा

अंजनी का लाला ओ बजरंग बाला कोई ना तुमसा बलि

अंजनी का लाला ओ बजरंग बाला, अंजनी का लाला ओ बजरंग बाला, कोई ना तुमसा बलि, सुमिरन करे जो, ध्यान धरे जो, करता तू उसकी भली, है सालासर में, धाम तुम्हारा, भक्तो का प्यारा तू,राम दुलारा, शीश झुकाता आ संसार सारा, अंजनी का लाला ओ बजरंग बाला, कोई ना तुमसा बलि।।\बज रहा जगत में डंका