Tag: Durga Maa Bhajan

उड़ जा काले कावा उड़के मैया के भवन में जाना।

जा उड़ जा कालेया कांवा, उड़ मईया के भवन जाना। मेरे दिल की बातें जा के मां को बतलाना। हो राहें तेरी तकते तकते(एएएए–एएए) हो राहें तेरी तकते तकते, सारी उम्र गुजारी, आजा मां इकबारी आजा, करके शेर सवारी, मेरे घर आ मा..ता, आ दुखड़े मिटा माता-2।। मां आ…….. आओ माँ मां आ…….. आओ माँ ◾️तेरी

नाम तेरा दुर्गे मैया हो गया दुर्गुणों का नाश।

नाम तेरा दुर्गे मैया हो गया, दुर्गुणों का नाश करते करते। श्लोक – तुम्ही को जपते, है जग के प्राणी, ब्रम्हा विष्णु शिव भोले दानी, जगत की विपदा मिटाने वाली, नमोस्तुते माँ अम्बे भवानी, नमोस्तुते माँ अम्बे भवानी। अम्बे भवानी,,, हो ओ, अम्बे भवानी तेरा ध्यान सभी है धरते, नाम तेरा दुर्गे मैया हो गया,

फूल भी न माँगती हार भी न माँगती माँ तो बस भक्तो का प्यार माँगती।

फूल भी न माँगती, हार भी न माँगती, माँ तो बस भक्तो का, प्यार माँगती, बोलो जय माता दी, बोलो जय माता दी, जय माता दी भक्तो का, प्यार माँगती, बोलो जय माता दी।। जय जगदम्बे, जय जगदम्बे, जय जगदम्बे, जय जगदम्बे। ◾️ऊँचे ऊँचे पर्वतो पे, डेरा मेरी माई का, जग है दीवाना है, सारा

बड़ी मुश्किल से आई तेरे दर आस पूरी माँ कर देना मेरी।

बड़ी मुश्किल से आई तेरे दर, आस पूरी माँ कर देना मेरी, लिए संकट हजारो के हर, आज चिंता माँ हर लेना मेरी, बड़ी मुश्किल से आई तेरे दर, आस पूरी माँ कर देना मेरी।। ◾️तुझे सबकी खबरिया है माता, तेरे आज्ञा से चलता विधाता, किसकी किस्मत के कैसे सितारे, सभी लिखा है पास तुम्हारे,

बड़े तुम्हारे है उपकार मैया तुमने जो होके दयाल हमारे दुःख दूर किए है।

बड़े तुम्हारे है उपकार मैया, तुमने जो होके दयाल, हमारे दुःख दूर किए है, बड़े तुम्हारे है उपकार मैया, करके हमारा भी खयाल, हमारे दुःख दूर किए है।। ◾️तू है मंगल करनी माँ, तू ही चिंता हरनी माँ, सारे जग में धूम तेरी, तू है जग की जननी माँ, गंगा जल सी पावन हो, भक्तो

लाखो के दुःख लिए हर दातिए झोलियाँ गरीबों की भी भर दातिए।

लाखो के दुःख लिए हर दातिए, झोलियाँ गरीबों की भी भर दातिए, सबको दिए खुशियों के वर दातिए, सबको दिए खुशियों के वर दातिए, झोलियाँ गरीबों की भी भर दातिए।। ◾️भरे हुए तेरे भंडार है, उनमे कमी ना किसी बात की, हर जगह पर हर और ही, करुणा की तूने तो बरसात की, सबपे है

मैया जी देना वरदान जी होके दयावान करें हम तुम्हारा गुणगान।

मैया जी देना वरदान, जी होके दयावान, करें हम तुम्हारा गुणगान, ना रस्ते से भटके, किसी को भी ना खटके, रहे तेरे चरणों में सदा ध्यान।। ◾️तू ज्योता वाली, जग से निराली, मूरत तुम्हारी है माँ, भोली भाली, धर्म बचाने को, पाप मिटाने को, तुम्ही बन जाती हो, चामुंडा काली, तेरा दिल सागर है, ममता

माँ की हर बात निराली है बात निराली है की हर करामात निराली है।

माँ की हर बात निराली है, श्लोक – पास की सुनती है, दूर की सुनती है, गुमनाम के संग संग, मशहूर की सुनती है, माँ तो आखिर माँ है, माँ के भक्तो, माँ तो हर, मजबूर की सुनती है। ◾️माँ की हर बात निराली है, बात निराली है, की हर करामात निराली है, माँ की

तुम्ही मेरी मैया जीवन खिवैया तुम्ही आसरा हो।

तुम्ही मेरी मैया, जीवन खिवैया, तुम्ही आसरा हो, तुम्ही आसरा हो, कोई माँ की आँखों में, देखे तो समझे, की ममता भरी है, की ममता भरी है।। ◾️जिधर देखती हूँ, उधर तू ही तू है, ना जाने मगर, किन खयालो में तू है, भक्तो को देख मैया, जरा मुस्कुरादो, नहीं तो वो समझेंगे, की उनसे

दाती माँ फरियाद सबकी सुनेगी।

दाती माँ फरियाद सबकी सुनेगी, बिगड़ी बनेगी आज बिगड़ी बनेगी।। ये है माँ का द्वार सच्चा द्वार, ये है माँ का द्वार सच्चा द्वार। ◾️जन्म के ही गूंगो को बोलते है देखा, अन्धो को यहाँ आके देखते है देखा, यहाँ आके तकदीरे पलटा है खाती, सूखे हुए चेहरों पे हरियाली आती, बनती किनारा यहाँ खुद