Tag: Baba Vichitra Ji Maharaj

बन तितली मैं उडदी फिरां

तमन्ना यही है के उड के बरसाने आयुं मैं आके बरसाने में तेरे दिल की हसरतो को फर्माऊ मैं जिस घडी मंदिर ए चौखट पे पहुँच जाऊँगा पकड़ मंदिर की झोली को यह फरमान गाऊंगा बन तितली मैं उडदी फिरां, किशोरी तेरे बरसाने श्री राधे राधे मैं गौन्दी फिरां, किशोरी तेरे बरसाने ◾️ किशोरी तेरे

राधा नाम की लगाई फुलवारी

पत्ता पत्ता श्याम बोलता पत्ता पत्ता श्याम बोलता||4|| ◾️ राधा नाम की लगाई फुलवारी के पत्ता पत्ता श्याम बोलता राधा नाम की लगाई फुलवारी के पत्ता पत्ता श्याम बोलता बोलो बररसाने वारी की जय हो प्रेम से बोलो राधे रानी की जय हो राधा नाम की जय हो राधा नाम की राधा नाम की लगाई

तेरे जन्मों की भटकन मिटेगी

जय जय बरसाने वाली जय जय वृषभानु दुलारी तेरे जन्मो की तेरे जन्मो की तेरे जन्मों की भटकन मिटेगी तू राधे राधे बोल जरा तेरे जन्मों की भटकन मिटेगी तू राधे राधे बोल जरा तू राधे राधे बोल जरा तेरी नैया भंवर ना फसेंगी तू राधे राधे बोल जरा ◾️ राधा राधा नाम की तो

मेरी विनती यही है राधा रानी कृपा बरसाए रखना

मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा बरसाए रखना मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से लिपटाए रखना ◾️ छोड दुनिया के झूठे नाते सारे, किशोरी तेरे दर पे आ गया मैंने तुमको पुकारा ब्रज रानी, जग से बचाए से रखना, कृपा बरसाए रखना… ◾️ इन स्वांसो की माला पे मैं, सदा ही तेरा नाम

कृपा की ना होती जो आदत तुम्हारी

प्रिय लाल राजे जहा तहा वृन्दावन जान वृन्दावन ताज एक पग जाये रसिक सुजान उर्र ऊपर नित्य रहू लटका अपनी बन माल का फूल बना दे लेहरे टकराती हो जिससे कामनिये कालिंदी का फूल बना दे करकंज से थमते हो जिसको उस वृक्ष कदम्ब को मूल बना दे ◾️ पद पंकज तेरे छुएंगे सदा ब्रजराज

ऐ मेरे प्राण प्रीतम मेरे सांवरे

ऐ मेरे प्राण प्रीतम मेरे सांवरे, मुझको तेरे सिवा कुछ, नहीं चाहिए, तेरे दर की मिले जो, गुलामी मुझे, दो जहाँ की हुकूमत, नहीं चाहिए, ऐ मेरे प्राण प्रीतम मेरे सांवरे, मुझको तेरे सिवा।। ◾️ तेरे गम से बड़ी है, मोहब्बत मुझे, मुझको झूठी मुसर्रत, नहीं चाहिए, है मसीहा मेरे मैं, वो बीमार हूँ, जिसको