राम राम राम भजो राम भजो भाई

राम राम राम भजो राम भजो भाई।
राम भजन बिन, जीवन सदा दुखदायी॥

◾️ अति दुर्लभ मनुज देह सहज ही पायी।
मुर्ख रहो राम भूल, विषयन मन लायी॥

◾️ बालकपन दुःख अनेक भोगत ही विसारी।
स्त्री सुत्त धन की अपार चिंता करना नाही॥

◾️ राम नाम जपत त्रिविद ताप जगन साई।
राम नाम मंगल करन सब विधि सुखदायी॥

◾️ प्रेम मगन मन से सकल कामना विहारी।
जो ही जपत राम नाम सोई मुख कृपा पायी॥

कृष्ण जन्माष्टमी शायरी कार्ड -2019

गीता की 151 चुनिंदा पंक्तियों का संकलन| आशा है की यह पंक्तियाँ आपने जीवन में सकारात्मकता का संचार करेगी| जय श्री कृष्णा !

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *