प्रगटे हैं चारों भैया में, अवध में बाजे बधईया

प्रगटे हैं चारों भैया में, अवध में बाजे बधईया।
जगमगा जगमग दियाला जलत है,
झिलमिल होत अटरिया, अवध में बाजे बधईया॥

◾️ कौन लुटावे हीरा मोती,
कौन लुटावे रूपया, अवध में बाजे बधईया॥

◾️ राजा लुटावे हीरा मोती,
मैया लुटावे रूपया, अवध में बाजे बधईया॥

◾️ झांझ मृदंग ताल डप बाजे,
नाचत ता ता थैया, अवध में बाजे बधईया॥

चुनिंदा गुड मॉर्निंग और गुड नाईट के 300+ सन्देश। भेजें अपनों को कार्ड बनाकर।

प्रेरणादायक अनमोल शायरी-Secrets of Success

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *