तूं तो हीरो सो जन्म गँवायो, भजन बिना बावरा✓ Lyrics Verified 

दोहा : राम भजन में आलसी, भोजन में होशियार।
तुलसी ऐसे जीव को बार बार धिकार।।
टेर : तूं तो हीरो सो जन्म गँवायो, भजन बिना बावरा।
कड़े न आयो साध सांगत में कड़े न हरि गुण गायो।
पच पच मरयो बैल की नांई सोय रहो उठ खायो।।

ये संसार हाट बणिये की सब जग सौदे आयो।
चातर माल चोगणो कीन्हों मुर्ख मूल गवायों।।

ये संसार फूल सिमल को सुवो देख लुभायो।
मारी चोंच निकल गई रुई सर धुन धुन पछतायो।।

ये संसार माया को लोभी ममता महल चिनायो।
कहत कबीर भजन बिन बन्दा हाथ कुछ नहीं आयो।।

इंटरनेट से पैसे कमाएं हम आपको बताएँगे ऐसे आईडिया जिनसे आप इंटरनेट के माध्यम से घर बैठे आसानी से पैसे बना सकते है।

चुनिंदा गुड मॉर्निंग और गुड नाईट के 300+ सन्देश। भेजें अपनों को कार्ड बनाकर।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *