ये हैं शंकर भोले, भाले दर्शन करलो जी।दर्शन करलो, झोली भरलो,

ये हैं शंकर भोले, भाले दर्शन करलो जी।
दर्शन करलो, झोली भरलो, पर उतरलो जी।
भोला भाला नाम धरा, पर सब जग से न्यारा है।
जटा में गंगा सोहे हैं, मस्तक चन्द उजियारा है।
ये हैं सब जग के रखवाले, दर्शन करलो जी।।1।।
आक धतूरा कहते हैं तन पे रख रमाते हैं।
एक हाथ त्रिशूल लिए दूजे डमरू बजाते हैं।
ये तो पिये भांग के प्याले दर्शन करलो जी।।2।।
नंदी गण असवारी है संग गोरजा प्यारी हैं।
सांपो की माला गल में जैसे कोई मदारी है।
इनका पार कोई क्या पाले दर्शन करलो जी।।3।।
नील कंठ भण्डारी का पार कोई नहीं पाया है।
दास ‘चिरंजी’ शिव भोला, तेरी शरण में आया है।
अब तो खोल कर्म के ताले, दर्शन करलो जी।।4।।

अपना लक्ष्य हासिल करें - 33 Tips to Achieve Goal क्या आप अपने लक्ष्य को पाना चाहते हैं? तो इसका जवाब होगा हाँ तभी तो आप यहाँ हैं।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *