पार होगा वही जिसे पकड़ोगे राम

पार होगा वही, जिसे पकड़ोगे राम, जिसको छोड़ोगे, पलभर में डूब जाएगा।। ◾️ तिरना क्या जाने, पत्थर बेचारे, तिरने लगे तेरे, नाम के सहारे, नाम लिखते आ गए है, पत्थर में प्राण, जिसको छोड़ोगे, पलभर में डूब जाएगा। पार होगा वहीँ, जिसे पकड़ोगे राम, जिसको छोड़ोगे, पलभर में डूब जाएगा।। ◾️ लंका जलाई, लांघा समुन्दर,

धीर वीरघम वीर साहसी वीरा

धीर वीरघम वीर साहसी वीरा शक्ति कुंज बलबीरा युद्ध तेज मय पराक्रमी आ जात राम बलबीरा राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम॥ ◾️ राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम राम

बजरंग बाला जय हो अंजनी के लाला रे जपूँ नाम तिहारो

बजरंग बाला जय हो अंजनी के लाला रे-2 जपूँ नाम तिहारो, मोहें लागे अति प्यारो, बाबा दर्शन दे दर्शन दे, बजरंग बाला जय हो अंजनी के लाला रे ओ शंकर सुवन केसरी नन्दन पवनपुत्र बलवान रे ओ राम लखन के काज सवांरे अंजनीपुत्र महान रे तीन लोक में महीमा तेरी गावे सब संसार रे बजरंग

बजरंग बलि मेरी नाव चली मेरी नाव को पार लगा देना

बजरंग बलि मेरी नाव चली मेरी नाव को पार लगा देना संताप ह्रदय का मिटा देना बजरंग बलि मेरी नाव चली।। मै दास तो आपका जन्म से हूँ बालक और शिष्य भी धर्म से हूँ निर्लज्ज विमुख निज कर्म से हूँ चित से मेरा दोष भुला देना बजरंग बलि मेरी नाव चली।। दुर्बल गरीब और

राम नाम से तूने बन्दे क्यूँ अपना मुख मोड़ा

राम नाम से तूने बन्दे क्यूँ अपना मुख मोड़ा, दौड़ा जाए रे समय का घोड़ा। ◾️ इक दिन बीता खेल-कूद में,इक दिन मौज में सोया, देख बुढ़ापा आया तो क्यों पकड़ के लाठी रोया, अब भी राम सुमिर ले नहीं तो पड़ेगा काल हथौड़ा, दौड़ा जाए रे समय का घोड़ा। ◾️ अमृतमय है नाम हरी

देखे अवध हरसा के जनम भयो राम लाला के

अरि मध्य दिवस न मी तिथि ना अति शीत ना घाम ओ ओ कौशल्या के लाल बन प्रकट भए श्री राम॥ अरि देखे अवध हरसा के देखे अवध हरसा के जनम भयो राम लाला के देखे अवध हरसा के जनम भयो राम लाला के देखे अवध हरसा के जनम भयो राम लाला के॥ राम लाला

बजरंग पलके उठाओ द्वार पे भक्त आये हैँ

बजरंग पलके उठाओ, द्वार पे भक्त आये हैँ, बजरंग पलके उठाओ, द्वार पे भक्त आये हैँ, द्वार पे भक्त आये हैँ। चरणोँ मेँ चढाने को, श्रद्धा सुमन लाये हैँ, श्रद्धा सुमन लाये हैँ॥ बजरंग पलके उठाओ, द्वार पे भक्त आये हैँ, जो मिले, झलक तेरी, मिटे प्यास इन आँखोँ की। मैँने सुना, मेरे बाबा, तूने

बजरंग की झांकी है अपार सजा है दरबार भजन हम गाएंगे

बजरंग की झांकी है अपार सजा है दरबार भजन हम गाएंगे श्लोक – लाल लंगोटा हाथ में सोटा झांकी अपरम्पार रूप अनोखा आज सजा है बोलो जय जयकार।बजरंग की झांकी है अपार सजा है दरबार भजन हम गाएंगे बाबा की झांकी है अपार हनुमत की झांकी है अपार सजा है दरबार भजन हम गाएंगे।। राम

प्यारे हनुमान बाला का घर है निराला

प्यारे हनुमान बाला का घर है निराला यहाँ जिसने भी अलख जगाई उसने मन की मुरादे है पाई उसने मन की मुरादे है पाई प्यारे हनुमान बाला का घर है निराला।। आस्था के फूलों की जो माला पहनाएंगे उनकी राहों के कांटे फूल बन जाएंगे भूल के जहान सारा जिसने यहाँ पर शुद्ध भावना की

ना स्वर है ना सरगम है ना लय न तराना है

ना स्वर है ना सरगम है ना लय न तराना है हनुमान के चरणो में एक फूल चढ़ाना है।। तुम बाल समय में प्रभु सूरज को निगल डाले अभिमानी सुरपति के सब दर्प मसल डाले बजरंग हुए तब से संसार ने जाना है ना स्वर है ना सरगम हैं ना लय न तराना है।। सब