आज हरी आये, विदुर घर पावना॥Verified Lyrics 

आज हरी आये, विदुर घर पावना॥
आज हरी आये, विदुर घर पावना॥

विदुर नहीं घर मैं विदुरानी ,आवत देख सारंग प्राणी ।
फूली अंग समावे न चिंता ॥ ,भोजन कंहा जिमावना ॥

केला बहुत प्रेम से लायीं, गिरी गिरी सब देत गिराई ।
छिलका देत श्याम मुख मांही ॥,लगे बहुत सुहावना,

इतने में विदुरजी घर आये ,खरे खोटे वचन सुनाये ।
छिलका देत श्याम मुख मांही ॥,कँहा गवांई भावना,

केला लीन्ह विदुर हाथ मांही,गिरी देत गिरधर मुख मांही ।
कहे कृष्ण जी सुनो विदुर जी ॥,वो स्वाद नहीं आवना,

बासी कूसी रूखी सूखी,हम तो विदुर जी प्रेम के भूखे ।
शम्भू सखी धन्य धन्य विदुरानी ॥,भक्तन मान बढावना,

Looking for all festival Best Wishes for all social platform in Hindi. So here it is a All in one wishes App.

हम आपके लिए लाए है सम्पूर्ण व्रत कथा ऐप। अभी डाउनलोड करें!

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *