अब तू ही बता गोपाल कुण पार लगावेगो

अब तू ही बता गोपाल,
कुण पार लगावेगो,
कुण आड़े आवेगो,
अब तू ही बता गोपाल,
कुण पार लगावेगो।।

◾️ दुनिया तेरी ऐसी है,
बटका सा भरे मेरे,
गर तू नहीं होवे तो,
नैया ने डूबोगे रे,
नैया ने डूबोगे रे,
फस गई मझधारा में,
कुण राह दिखावेगो,
कुण पार लगावेगो,
कुण आड़े आवेगो,
अब तु ही बता गोपाल,
कुण पार लगावेगो।।

◾️ तू दाता दुनिया को,
बण देवे लिख्यो लिख्यो,
मेरी गर मिट गई तो,
फेरु सो श्यामल को,
फूटी मेरी किस्मत ने,
कद हाथ लगावेगो,
कुण पार लगावेगो,
कुण आड़े आवेगो,
अब तु ही बता गोपाल,
कुण पार लगावेगो।।

◾️ कवे ‘रामकुमार’ ओ श्याम,
मेरी अर्जी सुण लेना,
मेरी आफत ने टालो,
काना तले मत देना,
काना तले मत देना,
तेरे हाथां में पतवार,
सौंपी तू ही जाणेगो,
कुण पार लगावेगो,
कुण आड़े आवेगो,
अब तु ही बता गोपाल,
कुण पार लगावेगो।।

अब तू ही बता गोपाल,
कुण पार लगावेगो,
कुण आड़े आवेगो,
अब तू ही बता गोपाल,
कुण पार लगावेगो।।

कृष्ण जन्माष्टमी शायरी कार्ड -2019

गीता की 151 चुनिंदा पंक्तियों का संकलन| आशा है की यह पंक्तियाँ आपने जीवन में सकारात्मकता का संचार करेगी| जय श्री कृष्णा !

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *