ऐ श्याम तेरे हम जब से दीवाने

हो ……सावरे …………
हम तेरे दीवाने
जग की झूठी माया से ……2
बेगाने हो गए
ऐ श्याम तेरे हम
जब से दीवाने हो गए …2
ख्वाब हुए सच सारे
काम अपसाने हो गए …2
ए श्याम तेरे हम
जब से दीवाने हो गए …2

◾️ आज मुझे सब पूछ रहे
कल तक क्या मेरी हस्ती थी
न ये रंग था
न ये ढंग था
न तेरे नाम की मस्ती थी ……2
तूने ही अनमोल बनायीं
वरना जिंदगी सस्ती थी
दिल जले तेरी ज्योति के …2
परवाने हो गए ………
ऐ श्याम तेरे हम
जब से दीवाने हो गए …2

◾️ जब से तेरी शरण में आया
मैं हर मुश्किल भूल गया
जब से तेरा दरबार है पाया
मैं हर महफ़िल भूल गया …2
तेरा मिला साथ सफर में
मैं मेरी मंजिल भूल गया
तेरे प्यार की मस्ती के …2
मस्ताने हो गए ………
ऐ श्याम तेरे हम
जब से दीवाने हो गए …2

◾️ क्या होता है रोना धोना
हम इस से अनजान हुए
क्या दौलत क्या सोना चंडी
बिन पैसे धनवान हुए …2
न कुछ माँगा न कुछ बोला
फिर पूरे अरमान हुए
हम भी भक्त तेरे ……2
जाने पहचाने हो गए …2
ऐ श्याम तेरे हम
जब से दीवाने हो गए …2

◾️ जग की झूठी माया से ……2
बेगाने हो गए
ऐ श्याम तेरे हम
जब से दीवाने हो गए …2
ख्वाब हुए सच सारे
काम अपसाने हो गए …2
ऐ श्याम तेरे हम
जब से दीवाने हो गए …4

चुनिंदा गुड मॉर्निंग और गुड नाईट के 300+ सन्देश। भेजें अपनों को कार्ड बनाकर।

गीता की 151 चुनिंदा पंक्तियों का संकलन| आशा है की यह पंक्तियाँ आपने जीवन में सकारात्मकता का संचार करेगी| जय श्री कृष्णा !

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *