फरियाद दुखी दिल की तुमको ही सुनाऊंगा।

फरियाद दुखी दिल की तुमको ही सुनाऊंगा।
बजरंग तेरे दर बिन किस दर पर जाऊंगा।
मिलकर तेरी दुनिया ने मुझको बड़ा लुटा है।
सुंदरता के पोछे सब नाटक झूठा है।
भटका हूँ मैं राहों से कब मंजिल पाऊंगा।।1।।
अँखिया तेरे बिरहा में दिन रात बरसती है।
तेरे दर्शन पाने को सदियों से तरसती है।
रहमत हो अगर तेरी तेरा दर्शन पाऊंगा।।2।।
बस एक तमन्ना है एक बार दर्श पाऊ।
तुम आके चले जाना इतनी ही दया चाहूँ।
अपने मन मंदिर में तेरी ज्योति जलाऊंगा।।3।।
अब तक सुना मैंने तुम भक्तो के स्वामी हो।
तुम्हे क्या बतलाऊं तुम अंतर्यामी हो।
चरणों में पड़ा रहकर जीवन ये बिताऊंगा।।4।।
ये दास ‘चिरंजी’ है जन्मों से तेरा चाकर।
मेरा जन्म सुधर जाये के बार तुम्हे पाकर।
वार्ना तेरे दर पर रो रो मर जाऊंगा।।5।।

We Brought a All in One Wishes App for you. Download now!

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *