माँ की ममता मैया से मांगे मुझे पुत्र मिले शरवण।

माँ की ममता मैया से मांगे,
मुझे पुत्र मिले, शरवण की तरह,
और भाभी मांगे देवर, लक्ष्मण की तरह।।

◾️गुरु बिन ज्ञान कहाँ से लाऊँ, गुरु से बड़ा ना कोई,
जो गुरु की सेवा है करता, सच्चा चेला वो ही,
गुरुवर मांगे मुझे शिष्य मिले,
मुझे शिष्य मिले एकलव्य की तरह,
और भाभी मांगे देवर, लक्ष्मण की तरह।।

◾️द्रोपती की पुकार सुनकर, वो नंगे पैरो आया,
अपनी बहन की पुकार पर, वो जरा नहीं रुक पाया,
हर बहन कहे मुझे भाई मिले,
मुझे भाई मिले कृष्णा की तरह,
और भाभी मांगे देवर, लक्ष्मण की तरह।।

◾️राम नाम की निशदिन, जपता रहे वो माला,
अपने प्रभु की भक्ति में वो, सदा रहे मतवाला,
रघुराम कहे हमें भक्त मिले,
हमें भक्त मिले हनुमत की तरह,
और भाभी मांगे देवर, लक्ष्मण की तरह।।

माँ की ममता मैया से मांगे,
मुझे पुत्र मिले, शरवण की तरह,
और भाभी मांगे देवर, लक्ष्मण की तरह।।

हम आपके लिए लाए है सम्पूर्ण व्रत कथा ऐप। अभी डाउनलोड करें!

We Brought a All in One Wishes App for you. Download now!

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *