Category: Shiv Bhajan

भोले के चरणों में ध्यान अपना लगा ले।

भोले के चरणों में, ध्यान अपना लगा ले, सुखदाई है ये नाम, जप रे मन रात दिन, बोलो बम बम बोलो, हर हर बम बम बोलो।। ◾️अंग भभूति रमाये है, माथे पे चंदा सुहाए है, गंगा जटाओ में समाये है, विषधर गले में लिपटाये है, भोले के चरणों में, ध्यान अपना लगा ले, सुखदाई है

भोला भांग तुम्हारी मैं घोटत घोटत हारी।

भोला भांग तुम्हारी, मैं घोटत घोटत हारी, हमसे ना घोटी जाए, तेरी एक दीना की होए तो घोटु, रोज ना घोटी जाए।। श्लोक – भोले तो अलमस्त है, पिए धतूरा भंग, गले में सोहे कालिया, जटा में सोहे गंग, गंग भंग दो बहन है, जो रहे उमा के संग, जिन्दा तारण भंग है, मुर्दा तारण

बाबा बेगो बेगो आजा रे कांवड़ लेके चाल थाका।

बाबा बेगो बेगो आजा रे, कांवड़ लेके चाल थाका, पगल्या दुखे रे, ओ बाबा बेगो बेगो आजा रे, कांवड़ लेके चाल थाका, पगल्या दुखे रे।। ◾️घणी देर सु बाट जोवता, हो गई म्हाने देरी, ना जाणे क्या में बिलमायो, हो रही रात अँधेरी, तू भी म्हारे सागे हो ले रे, कांवड़ लेके चाल थाका, पगल्या

फिर से सावन की रुत आई मौका चूक ना जाना भाई।

फिर से सावन की रुत आई, मौका चूक ना जाना भाई, दरबार में भोले शंकर के, गंगा जल भरके चलो, बम बम रटते चलो।। ◾️वो ही कांवर उठाकर आते, मेरे भोले जिसको बुलाते, शिव शंकर की बात निराली, कोई दर से लौटा ना खाली, जिसने प्रेम से नाम लिया है, भोले शंकर ने क्या ना

प्रभु इतना ध्यान देना जब अन्त समय आये।

प्रभु इतना ध्यान देना, जब अंत समय आये, भोले इतना ध्यान देना, जब अंत समय आये, ओ भोले इतना ध्यान देना, जब अंत समय आये, दर्शन का दान देना, जब अंत समय आये, भोले इतना ध्यान देना, जब अंत समय आये।। ◾️भावना मेरे मन की, भावुक होकर बोली, इस मन में वास करे, भोले की

नाथ मै तो हार गई घोट के भांग तुम्हारी।

नाथ मै तो हार गई, घोट के भांग तुम्हारी, हम तो हुए पराए स्वामी, हम तो हुए पराए स्वामी, भांग लगे तुम्हे प्यारी, नाथ मै तो हार गई, घोट के भांग तुम्हारी।। ◾️हरी हरी भांग की बूटी देखो, हरी हरी भांग की बूटी देखो, सौतन बनी हमारी, जंगल छोड़ के खोए दिए इसने, बोए बोए

ना दिया ना दिया कह रहा नादिया।

ना दिया ना दिया कह रहा नादिया, ना दिया ना दिया कह रहा नादिया।। ◾️शिव शंकर डमरू वाले, तुम मेरे पड़ गए पाले, तुम्हे घुमा घुमा कर भगवन, मेरे पाँव में पड़ गए छाले, तूने सबको दिया पर मुझे ना दिया, तूने सबको दिया पर मुझे ना दिया, यूँ बोले नादिया, ना दिया ना दिया

दानी बड़ा ये भोलेनाथ पूरी करे मन की मुराद।

दानी बड़ा ये भोलेनाथ, पूरी करे मन की मुराद, देख ले मांग के मांग के, तेरा बिगड़ा मुक्कदर सवर जायेगा, तेरा दामन भी खुशियों से भर जायेगा।। ◾️दिन दयालु कहे इसको जमाना, काम है इसका किस्मत जगाना, भोले के दर पे जिसने अर्जी लगाई है, हाथो ही हाथ हुई उसकी सुनाई है, देख ले मांग

डमरू वाले भोले बाबा कर दो दया हे शिव भोले दानी।

डमरू वाले भोले बाबा, कर दो दया हे शिव भोले दानी।। ◾️नाम तेरा जपति है दुनिया, गाते है बम बम सब जग के प्राणी, डमरू वाले भोले बाबा, कर दो दया है शिव भोले दानी, आया हूँ दर पे विनती सुनाने, नैनो में अपने भरकर के पानी, डमरू वाले भोले बाबा, कर दो दया हे

डमरू वाले डमरू बजा गंगा माँ को धरा पे तू ले आ।

डमरू वाले डमरू बजा, गंगा माँ को धरा पे तू ले आ, सब दुखड़े तू मिटा, डमरू वाले डमरू बजा।। ◾️धरा पे निकली जब गंगा माई, उसको जटा में समाये, हे शिव जो गंगा मुक्त करो ना, कैसे ये जग मुक्ति पाए, ये पाप मिटाये, ये मुक्ति दिलाये, सुनो जी शिव भोले भाले, डमरू वालें