Category: Shiv Bhajan

बम भोले,यही वो तंत्र है, यही वो मन्त्र है

बम भोले, बम भोले, बम बम बम यही वो तंत्र है, यही वो मन्त्र है प्रेम से जपोगे तो मिटेंगे सारे गम – बम भोले…. कभी योगी कभी भोगी, कभी बाल ब्रह्मचारी कभी आदि देव, महादेव, त्रिपुरारी कभी शंकर, कभी शम्भू , कभी भोले भंडारी नाम अनंत तोरे जग बिलहारी शिव का नाम लो, सुबह

तेरा पल पल बीता जाए, तूँ जपले ॐ नमः शिवाय – २

तेरा पल पल बीता जाए, तूँ जपले ॐ नमः शिवाय – २ शिव शिव तुम हृदय से बोलो, मन मंदिर का परदा खोलो। अवसर खाली ना जाए, तूँ जपले…. यह दुनिया पंछी का मेला, समझो उड़ जाना है अकेला। तेरा तन यह साथ न जाय, तूँ जपले…. मुसाफिरी जब पूरी होगी, चलने की मजबूरी होगी।

ये हैं शंकर भोले, भाले दर्शन करलो जी।दर्शन करलो, झोली भरलो,

ये हैं शंकर भोले, भाले दर्शन करलो जी। दर्शन करलो, झोली भरलो, पर उतरलो जी। भोला भाला नाम धरा, पर सब जग से न्यारा है। जटा में गंगा सोहे हैं, मस्तक चन्द उजियारा है। ये हैं सब जग के रखवाले, दर्शन करलो जी।।1।। आक धतूरा कहते हैं तन पे रख रमाते हैं। एक हाथ त्रिशूल

थारा डम डम डमरू बाजे रे, बाजे रे,

थारा डम डम डमरू बाजे रे, बाजे रे, शिव शंकर कैलाश पति संग गौरां नाचे रे। शंकर नाचे गौरां नाचे नाच रहे गणराई। नंदीगण सुर ताल दे रहे ढोलक झांझ बजाई।।1।। कैलाशी काशी के वासी, अजर अमर अविनाशी। भक्तां का दुख फिरे बांटता, कटे यम की फांसी।।2।। महल अटारी जग ने बांटया, आप बन्या बनवासी।

श्री शिव चालीसा – श्री गणेश गिरिजा सुवन,

॥दोहा॥ श्री गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान। कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान॥ ॥चौपाई॥ जय गिरिजा पति दीन दयाला। सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥ भाल चन्द्रमा सोहत नीके। कानन कुण्डल नागफनी के॥ अंग गौर शिर गंग बहाये। मुण्डमाल तन छार लगाये॥ वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे। छवि को देख नाग मुनि मोहे॥1॥ मैना मातु की ह्वै

जब से देखा तुम्हे जाने क्या हो गया ए भोलेनाथ बाबा मैं तेरा हो गया

जब से देखा तुम्हे, जाने क्या हो गया, ए भोलेनाथ बाबा मैं तेरा हो गया । तू दाता है तेरा, पुजारी हूँ मैं, तेरे दर का बाबा, भिखारी हूँ मैं ।-2 तेरी चौखट पे दिल, ये मेरा खो गया, ए भोलेनाथ बाबा मैं तेरा हो गया ॥-4 जब से मुझको तेरी, भोले भक्ति मिली, मेरे

फरियाद मेरी सुनके भोलेनाथ चले आना।

फरियाद मेरी सुनके, भोले नाथ चले आना, नित ध्यान धरूँ तेरा, चरणों में जगह देना, फरियाद मेरी सुनके, भोले-नाथ चले आना।। ◾️तुझे अपना समझकर हम, फरियाद सुनाते है, तेरे दर पे आकर हम, नित अलख जगाते है, क्यूँ भूल गये भगवन, हमें समझ के बेगाना, फरियाद मेरी सूनके, भोले-नाथ चले आना।। ◾️मेरी नाव भंवर डोले,

रहने दो भोले हमे चरणों की छाँव में।

रहने दो भोले हमे चरणों की छाँव में, अपने भजन में लगाए रखना, भोले जी, भोले जी, रहने दो बाबा हमे चरणों की छाँव में, अपने भजन में लगाए रखना, भोले जी, भोले जी।। ◾️मेरे इस दिल में सदा तेरी लगन हो, मुख में ऐ भोले दानी तेरे भजन हो, इसके सिवा दूजी कोई मांग

मैं तो शिव की पुजारन बनूँगी।

मैं तो शिव की पुजारन बनूँगी, अपने भोले की जोगन बनूँगी, मैं तो शिव की पुजारन बनूँगी, अपने भोले की जोगन बनूँगी।। ◾️मैं तो पहनुँगी जोगन का चोला, वो है पारस महादेव भोला, मैं तो पहनुँगी जोगन का चोला, वो है पारस महादेव भोला, चरण छु कर मैं कुंदन बनूँगी, अपने भोले की जोगन बनूँगी,

मेरे भोले बाबा को अनाड़ी मत समझो।

मेरे भोले बाबा को अनाड़ी मत समझो, अनाड़ी मत समझो, खिलाडी मत समझो, अनाड़ी मत समझो, खिलाडी मत समझो, वो है त्रिपुरारी अनाड़ी मत समझो।। ◾️मेरे भोले बाबा के गले सर्प माला, मेरे भोले बाबा के गले सर्प माला, सर्पो को देख कर सपेरा मत समझो, सपेरा मत समझो, सपेरा मत समझो, अनाड़ी मत समझो,