Category: Krishan Bhajan

मेरी विनती यही है राधा रानी कृपा बरसाए रखना

मेरी विनती यही है राधा रानी, कृपा बरसाए रखना मुझे तेरा ही सहारा महारानी, चरणों से लिपटाए रखना ◾️ छोड दुनिया के झूठे नाते सारे, किशोरी तेरे दर पे आ गया मैंने तुमको पुकारा ब्रज रानी, जग से बचाए से रखना, कृपा बरसाए रखना… ◾️ इन स्वांसो की माला पे मैं, सदा ही तेरा नाम

तेरे दर पे आया सुदामा भिखारी

आओ कन्हैया, आओ मुरारी, तेरे दर पे आया सुदामा भिखारी॥ तेरे दर पे आया सुदामा पुजारी॥ आओ कन्हैया, आओ मुरारी… ◾️ क्या मैं बताऊँ, क्या मैं सुनाऊँ, एक दुःख नहीं जो मैं मन में छिपाऊँ। घट-घट की जानते हो, तुम सब मुरारी, तेरे दरपे आया सुदामा भिखारी॥ आओ कन्हैया, आओ मुरारी… ◾️ ना तो डगर

बताओ कहाँ मिलेगा श्याम

बताओ कहाँ मिलेगा श्याम। चरण पादुका लेकर सब से पूछ रहे रसखान॥ ◾️ वो नन्ना सा बालक है, सांवली सी सूरत है, बाल घुंघराले उसके, पहनता मोर मुकुट है। नयन उसके कजरारे, हाथ नन्ने से प्यारे, बांदे पैजन्यिया पग में, बड़े दिलकश हैं नज़ारे। घायल कर देती है दिल को, उसकी इक मुस्कान॥ बताओ कहाँ

तेरी मुरली की धुन

हरे कृष्णा कृष्णा बोल, राधे राधे राधे बोल॥ हरे कृष्णा कृष्णा बोल, राधे राधे राधे बोल॥ तेरी मुरली की धुन सुनने, मैं बरसाने से आई हूँ। मैं बरसाने से आई हूँ, मैं वृषभानु की जाई हूँ। ◾️ अरे रसिया, ओ मन बसिया, मैं इतनी दूर से आयी हूँ॥ तेरी मुरली की धुन सुनने, मैं बरसाने

कृपा की ना होती जो आदत तुम्हारी

प्रिय लाल राजे जहा तहा वृन्दावन जान वृन्दावन ताज एक पग जाये रसिक सुजान उर्र ऊपर नित्य रहू लटका अपनी बन माल का फूल बना दे लेहरे टकराती हो जिससे कामनिये कालिंदी का फूल बना दे करकंज से थमते हो जिसको उस वृक्ष कदम्ब को मूल बना दे ◾️ पद पंकज तेरे छुएंगे सदा ब्रजराज

गोविंद बोलो हरि गोपाल बोलो

गोविंद बोलो हरी गोपाल बोलो गोविंद बोलो हरी गोपाल बोलो गोविंद बोलो हरी गोपाल बोलो गोविंद बोलो हरी गोपाल बोलो राधा रमण हरी गोपाल बोलो राधा रमण हरी गोपाल बोलो राधा रमण हरी गोपाल बोलो राधा रमण हरी गोपाल बोलो गोविंद बोलो हरी गोपाल बोलो गोविंद बोलो हरी गोपाल बोलो गोविंद बोलो हरी गोपाल बोलो

मत कर तू अभिमान रे बंदे

मत कर तू अभिमान रे बंदे, झूठी तेरी शान रे। मत कर तू अभिमान॥ ◾️ तेरे जैसे लाखों आये, लाखों इस माटी ने खाए। रहा ना नाम निशान रे बंदे, मत कर तू अभिमान॥ ◾️ माया का अन्धकार निराला, बाहर उजला अन्दर काला। इस को तू पहचान रे बंदे, मत कर तू अभिमान॥ ◾️ तेरे

श्याम तेरी बन्सी पुकारे राधा नाम

श्याम तेरी बन्सी पुकारे राधा नाम लोग करे मीरा को यूँ ही बदनाम ◾️ साँवरे की बन्सी को बजने से काम राधा का भी श्याम वो तो मीरा का भी श्याम ◾️ जमना की लहरें बन्सीबट की छैया किसका नहीं है कहो कृष्ण कन्हैया ◾️ श्याम का दीवाना तो सारा ब्रिजधाम लोग करे मीरा को

राधा के बिना श्याम आधा

श्याम राधे कोई ना कहता, कहते राधे श्याम जन्म जन्म भाग्य जगा दे एक राधा का नाम राधा के बिना श्याम आधा, कहते राधे श्याम बोलो राधे राधे राधे बोलो राधे ◾️ व्यर्थ पड़ा माला बिन मोती, व्यर्थ रही दीपक बिन ज्योति चंदा बिना चाँदनी जैसी, सूरज बिना धूप ना होती बिना राधा के कहा

राधिका गोरी से बिरज की छोरी से

राधिका गोरी से बिरज की छोरी से, मैया करादे मेरो ब्याह, उम्र तेरी छोटी है नज़र तेरी खोटी है, कैसे करादू तेरो ब्याह, ◾️ जो नहीं ब्याह कराये, तेरी गैया नहीं चराऊ, आज के बाद मेरी मैया तेरी देहली पर न औ, आएगा रे मज़्ज़ा रे मज़्ज़ा अब जीत हार का, राधिका गोरी से बिरज