Category: Krishan Bhajan

कान्हा तेरे दर पे आई कान्हा तेरे दर पे

कान्हा तेरे दर पे आई कान्हा तेरे दर पे सब सुख मोह को त्याग के मैं आई तेरे दर पे ओह कान्हा आई तेरे दर पे ◾️ तू जग दाता तू ही विधाता तू मंगलमय तू दुःख हरता तू रुख मोड़ दे चारो दिशा का तेरे दर पे मैं आई कान्हा ◾️ सारे जहां का

रूस ना जावीं मोहन मेरे जीवन मेरा सहारे तेरे

रूस ना जावीं मोहन मेरे, जीवन मेरा सहारे तेरे ◾️ चंगे माड़े असीं हां तेरे, माफ़ तू करदे अवगुण मेरे हाथ रहे तेरा सर ते मेरे, जीवन मेरा सहारे तेरे रूस ना जावीं मोहन मेरे… ◾️ अपने पराये ताने मारदे, वास्ते तैनू मेरे प्यार दे अपना बना ले प्रीतम मेरे, जीवन मेरा सहारे तेरे रूस

मुझे ऐसी लगनिया लगा दे मैं तेरे बिना पल ना रहूँ

मुझे ऐसी लगानिया लगा दे, मैं तेरे बिना पल ना रहूँ ◾️ सामने बैठे रहो, दिल को करार आएगा जितना देखेंगे तुम्हे उतना प्यार आएगा दिल मे प्यार वाला दीप जला दे, मैं तेरे बिना पल ना रहूँ… ◾️ जैसे जल बिन मछली जी ना पाए ऐसे ही तड़पुं मैं तेरे लिए श्याम अपनी प्यारी

मेरे सांवरे सलोने कन्हैया तेरा जलवा कहाँ पर नही है,

मेरे सांवरे सलोने कन्हैया तेरा जलवा कहाँ पर नही है, तेरा जलवा कहाँ पर नही है, तेरा जलवा कहाँ पर नही है, ◾️ कान वालो ने जाकर सुना है, आँख वालो ने जाकर के देखा। उनकी आँखो मे परदा पड़ा है जिस ने जलवा ये देखा नही है॥ ◾️ लोग पीते है पी पी के

राधा नाम की लगाई फुलवारी

पत्ता पत्ता श्याम बोलता पत्ता पत्ता श्याम बोलता||4|| ◾️ राधा नाम की लगाई फुलवारी के पत्ता पत्ता श्याम बोलता राधा नाम की लगाई फुलवारी के पत्ता पत्ता श्याम बोलता बोलो बररसाने वारी की जय हो प्रेम से बोलो राधे रानी की जय हो राधा नाम की जय हो राधा नाम की राधा नाम की लगाई

तेरे जन्मों की भटकन मिटेगी

जय जय बरसाने वाली जय जय वृषभानु दुलारी तेरे जन्मो की तेरे जन्मो की तेरे जन्मों की भटकन मिटेगी तू राधे राधे बोल जरा तेरे जन्मों की भटकन मिटेगी तू राधे राधे बोल जरा तू राधे राधे बोल जरा तेरी नैया भंवर ना फसेंगी तू राधे राधे बोल जरा ◾️ राधा राधा नाम की तो

आना श्री भगवान हमारे हरी कीर्तन में

आना श्री भगवान हमारे हरी कीर्तन में ||2|| आना सुन्दर श्याम हमारे हरी कीर्तन में ||2|| आना श्री भगवान हमारे हरी कीर्तन में……… ◾️ आप भी आना संग राधा जी को लाना ||2|| आके दरश दिखाना हमारे हरी कीर्तन आना श्री भगवान हमारे हरी कीर्तन में आना सुन्दर श्याम हमारे हरी कीर्तन में आना श्री

मैं चिठिया लिख लिख हारी

मैं चिठिया लिख लिख हारी, कब आओगे बांके बिहारी नाथ कब आओगे, श्याम कब आओगे ◾️ पहले जै श्री श्याम लिखा है फिर चरणों में प्रणाम लिखा है मैंने चिठियों में चिठिया डाली नाथ कब आओगे… ◾️ दूजी चिठ्ठी में यह लिख डाला घर आओ नन्द के लाला तेरे भगतो ने बाट निहारी नाथ कब

तुमने बुलाया फिर मुझे

तुमने बुलाया फिर मुझे लो आ गया प्रभु दर्शन दिए है आपने की है दया प्रभु ◾️ राहे थी बंद आपने रस्ते बना दिए सब इंतज़ाम कर दिए बाबा मेरे लिए करजाई फिर से आपका मैं हो गया प्रभु ◾️ चाहोगे जब भी तुम प्रभू आऊंगा मैं ज़रूर दर्शन को नैन बावरे कैसे रहेंगे दूर

दर्शन दिखादे मेरे श्याम

दर्शन दिखादे मेरे श्याम, बाबा आन पड़ा हूँ तेरे द्वार पे लाखो की नैया बन के खिवैया तूने पार लगाये मेरी भी नाव डोले खाए हिचकोले मेरे श्याम कन्हाई झूठे सहारे हैं तमाम, बाबा आन पड़ा हूँ तेरे द्वार पे दर्शन दिखा दे मेरे श्याम… ◾️ कब से पुकारूँ, बाट निहारूं मेरी बिगड़ी बना दे