Category: Krishan Bhajan

नंद बाबाजी को छैया -2Verified Lyrics 

नंद बाबाजी को छैया -2 वाको नाम है कन्हैया, कन्हैया कन्हैया रे .. बड़ो गेंद को खिलैया आयो आयो रे कन्हैया, कन्हैया कन्हैया रे.. काहे की गेंद है काहे का बल्ला गेंद मे काहे का लागा है छल्ला कौन ग्वाल ये खेलन आये खेलें ता ता थैया ओ भैया, कन्हैया कन्हैया रे .. रेशम की

अधरों पे जा सजी है कन्हैया तेरी ये वंशी।Verified Lyrics 

अधरों पे जा सजी है कन्हैया तेरी ये वंशी। ये तान दे निराली बजैया तेरी ये वंशी। हम सबको बाँधती है तेरी राह और डगर पे, अब मन नहीं है बस में बसैया तेरी ये वंशी।। ये प्रेम तो अमर है राधा किशन से जग में। सब लोग दिख रहे है इसमें मगन से जग

जीने का सहारा तेरा नाम रे,Verified Lyrics 

बनवारी रे बनवारी रे…. जीने का सहारा तेरा नाम रे मुझे दुनिया वालों से क्या काम रे झूठी दुनिया झूठे बंधन, झूठी है ये माया झूठा साँस का आना जाना, झूठी है ये काया ओ, यहाँ साँचा तेरा नाम रे बनवारी रे … रंग में तेरे रंग गये गिरिधर, छोड़ दिया जग सारा बन गये

नख पर गिरिवर लीनो धार, कन्हैया मेरो बारो,Verified lyrics 

नख पर गिरिवर लीनो धार, कन्हैया मेरो बारो, कन्हैया मेरो बारो, कन्हैया मेरो बारो। नख पर गिरिवर लीनो धार, कन्हैया मेरो बारो ॥1॥ यूँ कहे यशोदा मैया, सब ज़ोर लगाओ भैया, अरी यह कैसे झेले भार, कन्हैया मेरो बारो, कन्हैया मेरो बारो,कन्हैया मेरो बारो। नख पर गिरिवर लीनो धार, कन्हैया मेरो बारो, कन्हैया मेरो बारो,

श्याम तेरा दर नहीं छूटे चाहे सारा जग रूठे✓ Lyrics Verified 

श्याम तेरा..आ, दर नहीं छूटे.., चाहे सारा..आ जग रूठे -3 प्रीत का धागा तुमसे बांधा, जन्म जन्म तक न टूटे श्याम तेरा..आ, दर नहीं छूटे.., चाहे सारा..आ जग रूठे रहमत बरसे, तेरी..इ श्याम, जब तक साँस है, लू तेरा नाम , लू तेरा नाम -2 छोड़ के आया सब की चौखट, अब है सहारा, खाटू

आओ आओ यशोदा के लाल -2Verified Lyrics 

आओ आओ यशोदा के लाल आओ आओ यशोदा के लाल, आज मोहे दरशन से कर दो निहाल, आओ आओ आओ आओ यशोदा के लाल नैया हमारी भंवर मे फंसी, कब से अड़ी उबारो हरि, कहते हैं दीनों के तुम हो दयाल( २) आओ आओ आओ आओ यशोदा के लाल, अबतो सुनलो पुकार मेरे जीवन आधार,

रुकमणी जीमण दे मने, भक्तों का प्रशाद,Lyrics Verified 

टेर : रुकमणी जीमण दे मने, भक्तों का प्रशाद, प्रेम वाला भोजन ऐ मने, लगे बड़ा स्वाद।। काचे चावल मत ना खाओ, कर से कृपा निधान। कच्चे-कच्चे चावलों से पेट दुखेगा कहा मेरा ले मान।। रुकमणी जीमण दे…. धन्ने भगत की गउए चराई, बाजरे की रोटियां खाई। अपने भक्त के खेत बाजरी, बिना बीज निप

सुमिरण करले मेरा मना बीती उम्र हरि नाम बिना।✓ Lyrics Verified 

टेर : सुमिरण करले मेरा मना बीती उम्र हरि नाम बिना। हस्ती दन्त बिना, पंछि पंख बिना, जिमि राहगीर है पथ बिना। वैश्या का पुत्र पिता बिन हिना, जिमि प्राणी हो प्राण बिना।। सुमिरण करले…… धेनु क्षीर नदियाँ नीर बिन, जैसे नारी पुरुष बिना। जैसे तरवर फल बिन सुना, जिमि धरती रहे मेघ बिना।। सुमिरण

कोणी माने ऐ यशोदा तेरो गिरधारी।✓ Lyrics Verified 

टेर : कोणी माने ऐ यशोदा तेरो गिरधारी। घर का तो छोड़ा कान्हा, महल मालिया, गुजारी की झोपड़ी, लगे प्यारी। कोणी माने ऐ….. घर का तो छोड़ा कान्हा, माखन मिसरी, तने गुजरी की राबड़ी, लगे प्यारी। कोणी माने ऐ….. घर का तो छोड़ा कान्हा, पलंग पथरना, तने गुजरी की गुदड़ी, लगे प्यारी। कोणी माने ऐ…..

मैं तो कृष्ण भजु या राम मेरे दोनों में अटके प्राण✓ Lyrics Verified 

मैं तो कृष्ण भजु या राम : कृष्ण जी और राम जी दोनों एक ही है। एक भगत की भावना को इस भजन में बहुत ही सूंदर शब्दों में व्यक्त किया गया है।   श्री राम…… राम…….राम……हो हो राम…… राम कृष्ण दोहु एक…. है एक है …… एक है राम कृष्ण दोहु एक…. है अंतर