Category: Khatu Shyam Bhajan

माना मुश्किल बहुत बड़ी पर डरने की क्या बात है

माना मुश्किल बहुत बड़ी पर डरने की क्या बात है ….2 ◾️ लेके हाथ में मोर छड़ी जब बाबा अपने साथ है …..2 माना मुश्किल बहुत बड़ी पर डरने की क्या बात है ….2 लेके हाथ में मोर छड़ी जब बाबा अपने साथ है …..2 ◾️ माना रात अँधेरी है लेकिन ये भी काट जाएगी

जगत के रंग क्या देखूं तेरा दीदार काफी है

जगत के रंग क्या देखूं तेरा दीदार काफी है। क्यों भटकूँ गैरों के दर पे तेरा दरबार काफी है॥ ◾️ नहीं चाहिए ये दुनियां के निराले रंग ढंग मुझको, निराले रंग ढंग मुझको चली जाऊँ मैं वृंदावन चली जाऊँ मैं वृंदावन तेरा श्रृंगार काफी है जगत के रंग क्या देखूं तेरा दीदार काफी है ◾️

मेरा आपकी कृपा से सब काम हो रहा है

मेरा आपकी दया से सब काम हो रहा है। करते हो तुम कन्हिया मेरा नाम हो रहा है॥ ◾️ पतवार के बिना ही मेरी नाव चल रही है। हैरान है ज़माना मंजिल भी मिल रही है। करता नहीं मैं कुछ भी, सब काम हो रहा है॥ ◾️ तुम साथ हो जो मेरे, किस चीज की

जो तुमको भूल जाए वो दिल कहां से लाऊं

जो तुमको भूल जाए, वो दिल कहां से लाऊं दिल है तो दिल में क्या है, कैसे तुम्हे बताऊँ ◾️ मेरे दिल का राज़ गम है, तू है बेनेयाज़ गम से तुझे अपने दर्दे दिल की क्या दासता सुनाऊं ◾️ नहीं अब रहा भरोसा मदहोश जिंदगी का तेरी याद के नशे में कहीं राह में

जब बिन मांगे मिलता तो बोल के क्या मांगू

जब बिन मांगे मिलता तो बोल के क्या मांगू धन दौलत क्या मांगे मुस्कान है दी तुमने हमे श्याम प्रेमियों की पहचान है दी तुमने जब बिन मांगे मिलता तो बोल के क्या मांगू ◾️ धन दौलत क्या मांगे मुस्कान है दी तुमने हमे श्याम प्रेमियों की पहचान है दी तुमने किस्मत को बनाते हो

श्याम सलोने का प्यारा श्रृंगार है

दिलवाला रंगरसिया मनबसिया बड़ा प्यारा दिलवाला मतवाला सारे जग का उज्जियारा श्याम सलोने का प्यारा श्रृंगार है, कितना सुन्दर सांवलिया सरकार है। सजा दरबार है की छायी बहार है। ◾️ मोर छड़ी हाथों में विराजे मोर मुकुट सिर पे है साजे। मोर मुकुट सिर पे है साजे-2, कान में कुण्डल गल वैजन्ती हार है॥ कितना

आपन तोह खाटूवाला ये लीले घोड़े वाला

अपना तो खाटूवाला, ये लीले घोड़े वाला सांवरा, भक्तों का रखवाला, ये मुरली वाला, भगतों का रखवाला अपना तो खाटूवाला, ये लीले घोड़े वाला सांवरा, भक्तों का रखवाला, ये मुरली वाला, भगतों का रखवाला॥ ◾️ श्याम की किरपा से कश्ती तुफानो में तैरती कितनी भी उची हो लहरें कश्ती को ना छेड़ती बन के माझी

ग्यारस की रात आयी, तुम श्याम को मना लो

ग्यारस की रात आयी तुम श्याम को मना लो …2 देता है सबको बाबा श्याम … देता है सबको बाबा श्याम … देता है सबको बाबा चाहे तो आज़मा लो …2 ◾️ ग्यारस की रात पावन और श्याम के मन भावन …2 प्यारे भजन सुनाओ गन श्याम के तुम गाओ आएगा कान्हा लिए छान प्रेम

सांवरा जब मेरे साथ है, हमको डरने की क्या बात है।

सांवरा जब मेरे साथ है, हमको डरने की क्या बात है। इसके रहते कोई कुछ कहे, बोलो किसकी यह औकात है॥ ◾️ छाये काली घटाए तो क्या, इसकी छतरी के नीचे हूँ मैं। आगे आगे यह चलता मेरे, मेरे मालिक के पीछे हूँ मैं। इसने पकड़ा मेरा हाथ है, मुझको डरने की क्या बात है॥

म्हाने खाटू में बुलाले बाबा श्याम

म्हाने खाटू में बुलाले बाबा श्याम……3 आयो मेलो फागण को ◾️ कई दिन सु मन में लागि जावा खाटू धाम……2 एक एक दिन गिन गिन कर काटा किया दिखे श्याम म्हाने खाटू में बुलाले बाबा श्याम……2 आयो मेलो फागण को ◾️ फागण मास रंगीलो थारे भागता के मन भावे…2 खाटू के मेले के माहि नाच