Category: Durga Maa Bhajan

जसोल में धाम बण्यो है माजीसा रो नाम कहयो है।

जसोल में धाम बण्यो है, माजीसा रो नाम कहयो है, माजीसा जय हो थारी, चालो चालो जसोल रे धाम, बुलावे माँ भटियाणी।। ◾️जय जयकार लगाता, चालो ओ ओ, माजीसा रा दर्शन पाओ, ओ अगर चंदन रो देवरो, थारो ओ अगर चंदन रो देवरो, थारी शोभा बणी, चालो चालो जसोल रे धाम, बुलावे माँ भटियाणी।। ◾️नवरात्रा

माजीसा बेगा म्हारे आइजो।

माजीसा बेगा म्हारे आइजो, माजीसा बेगा म्हारे आइजो, थारे भक्ता ने3, दर्श दिखाइजो म्हारी भटियाणी माँ।। ◾️माजीसा जसोलगढ़ में बिराजो, माजीसा जसोलगढ़ में बिराजो, थारे जगमग3 … जोता जागे म्हारी भटियाणी माँ, माजीसा बेगा म्हारे अइजो, थारे भक्ता ने, दर्श दिखाइजो म्हारी भटियाणी माँ।। ◾️माजीसा लाल चुनरिया सोवे, माजीसा लाल चुनरिया सोवे, थारे माथे 3….

मेरी मैया में वो जादू है।

मेरी मैया में वो जादू है, इस द्वार पे जो आता है, वो भक्त माँ अम्बे रानी फिर, तेरे ही भजन गाता है, तेरे ही भजन गाता है, मेरी मैया में वो जादू है।। ◾️तीनो लोको की प्रतिपाली, मैया जग बगिया की माली, झोली भरती सबकी खाली, सवाली बनके जो द्वार पे आए, करती हर

दुनिया के रंग रूप में क्यों हो गया मगन।

दुनिया के रंग रूप में, क्यों हो गया मगन, आजा आजा आजा शरण, ले पकड़ माँ के चरण।। श्लोक – हे जगत जननी, भवानी शारदे, माँ हमें भी ज्ञान का भंडार दे, तेरे सेवक सुर असुर नर और मुनि, तेरी सेवा सेवको को तार दे, मुझको भी चरणों की सेवा में लगा, माँ मै नहीं

सुणो हे माँ टाबरियो री आशा मनसा पुरो हो।

सुणो हे माँ टाबरियो री, आशा मनसा पुरो हो, घरे आवो गवरल माँ, हो देवो दरश दिखाए, थारे बिन जग सुनो सुनो, लागे मोरी माय।। ◾️घेर घुमेलो थारो घाघरो ये, मेहन्दी रचियोड़ा हाथ, मेहन्दी रचियोड़ा हाथ, तारा जड़ी चुन्दडी रंग लाल, मन लियो मोए, मैया तारा जड़ी चुन्दडी रंग लाल, मन लियो मोए, सुणो हे

पर्वत की चोटी चोटी पे ज्योति ज्योति दिन रात जलती है।

पर्वत की चोटी चोटी पे ज्योति, ज्योति दिन रात जलती है, पर्वत की चोटी चोटी पे ज्योति, ज्योति दिन रात जलती है, झिलमिल सितारों की, ओढ़े चुनर माँ, शेर पे सवार मिलती है।। ◾️लाल चुनरिया लाल घगरिया, माँ के मन भाए, लाल लांगुरिया लाल ध्वजा, मैया की लहराए, करे नजरिया जिसपे मैया, भाग्य चमक जाए,